वॉलीबाल खेल नियम के बारे में रोचक तथ्य : Volleyball Game Rules About Facts In Hindi

वॉलीबाल के नियम

वॉलीबाल के सामान्य नियम निम्नलिखित     हैं –

1- वॉलीबाल मैच 3 सैट या 5 सैट का होता है। एक सैट के 15 अंक होते हैं, जो टीम सबसे पहले 15 अंक बना लेता है, वह जीत जाती है।

2- दिशा चुनने के लिए और पहले सर्विस करने के लिए दल के कप्तान टॉप करते हैं, जो दल टॉप जीत जाता है वह दिशा चुनता है और पहले सर्विस और करता है।

3- निर्णायक क्षेप को आरंभ करने से पहले दोबारा टॉस किया जाता है।

4- निर्णायक क्षेप के मध्य में अर्थात जब एक टीम 8 अंक बना ले तो दिशाओं को बदल दिया जाता है परंतु सर्विस उसी दल की ही रहेगी जिनके पास थी। यदि गलती से समय पर दिशा परिवर्तन न हो तो रेफरी को उसी समय दिशा परिवर्तन का आदेश देना चाहिये जब उसे गलती का ज्ञान हो जाए।

5- रेफरी या निर्णायक को टाइम आउट की अनुमति उस समय देनी चाहिए, जब गेंद खेल में न हो। जब किसी भी दल का कैप्टन या कोच खेल को रोकने का निवेदन करता है तो उसे यह बात स्पष्ट करनी चाहिए कि खेल विकल्प के लिए रोका जा रहा है या टाइम आउट के लिये। यदि वह स्पष्ट नहीं करता है तो टाइम आउट का निवेदन ही समझ जाएगा।

6- टाइम आउट के समय खिलाड़ी कोर्ट से बाहर नहीं जा सकते है, उन्हें केवल अपने कोच की बात सुननी हैं परंतु कोच कोर्ट में नहीं आ सकता है। प्रत्येक टीम एक सैट में दो बार टाइम आउट ले सकती है। एक टाइम आउट का काल केवल 30 सेकंड होगा।

7- किसी खिलाड़ी के विकल्प के तुरंत बाद खेल आरंभ हो जायेगा। विकल्प के लिए खेल के समय कोच को किसी प्रकार की सलाह देने की आज्ञा नहीं होती हैं।

8- यदि कोई खिलाड़ी घायल हो जाता है तो निर्णायक अधिकारी को खेल रोक देना चाहिये परंतु यह तीन मिनट से अधिक नहीं रोकना चाहिए और इस समय को टाइम आउट के रूप में नहीं मनना चाहिए।

9-  दो सैटों के मध्य 2 मिनट का मध्यांतर होना चाहिए। चौथे एवं पाँचवें सैट के बीच में 5 मिनट का मध्यांतर होता है। इस मध्यांतर में दिशाओं के परिवर्तन तथा क्रम बदलाव बनाने का समय भी सम्मिलित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.