सामान्य ज्वर के कारण, लक्षण और उपचार : Samanya Jvar Ke Karan Lakshan Aur Upchar

सामान्य ज्वर के कारण व लक्षण

इस प्रकार के ज्वार में शरीर का तापक्रम बढ़ जाता है तथा संपूर्ण शरीर में जकड़न होने लगती है या फिर कभी कभी शरीर में दर्द होता है सामान्य ज्वर में शरीर का तापक्रम 101 से 102 डिग्री के आसपास रहता है। इस ज्वर में कभी कभी पसीना भी आता है।

उपचार

नींबू : जब ज्वर में बार-बार प्यास लगे तो रोगी को गर्म उबलते पानी में नींबू निचोड़ कर पिलाने से शरीर का तापक्रम गिर जाता है। इस उपचार में एक कप पानी में दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर रोगी को पिलाएं।

नींबू को पानी में निचोड़ कर पीने से भी ज्वर कम हो जाता है

इमली : इमली का पानी पिलाने से बुखार में लाभ होता है।

नारियल : नारियल का पानी पीने से ज्वर कम हो जाता है।

चुकंदर : 250 ग्राम चुकंदर का रस, 125 ग्राम खीरा ककड़ी का रस तथा 185 ग्राम गाजर के रस को मिलाकर पीने से ज्वर कम हो जाता है।

अदरक : अदरक को चूसने से ज्वर में लाभ होता है।

खुबानी : ज्वर ग्रस्त रोगियों के लिए यह विशेष और लाभदायक है। खुुबानी का रस ग्लूकोज या शहद के साथ विशेष प्रभाव छोड़ता है। इसको पीने से प्यास व जलन शांत हो जाती है तथा शरीर का मल व विषाक्त पदार्थ बाहर निकलते हैं, रोगी के स्नायु तंत्र को दृढ़ता प्राप्त होती है।

चकोतरा : ज्वर के रोगी को बार-बार प्यास लगती है तथा उनके दिल के आसपास जलन सी अनुभव होती रहती है ऐसी स्थिति में रोगी को चकोतरे का रस पानी मिलाकर पिलाने से उसकी जलन और प्यास समाप्त हो जाती है और रोगी को शांति मिलती है।

मुनक्का : बुखार में मुनक्का उपयोगी फल माना जाता है। ज्वर पीड़ित रोगियों को पानी में भिगो हुए मुनक्के को भले भांंति मसलकर पानी को छानकर पिलाने से काफी लाभ होता है। इस पेय मे थोड़ा नीबू भी मिला दिया जाएं  तो यह पेय और भी स्वादिष्ट बन जाता है।

अनन्नास : अनन्नास का एक कप रस लेकर उसमें दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से सारा ज्वर उतर जाता है।

शहतूत : शहतूत का प्रयोग रोगियों की जलन व प्यास समाप्त कर देता हैं।

बेल : ज्वर होने पर बेल की कचरी 20 ग्राम मात्रा में पीसकर चूर्ण बना लें तथा इसे हल्के गर्म पानी के साथ 5-5 ग्राम लेते रहें। काफी राहत मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.