मुंह की दुर्गन्ध के कारण, लक्षण और उपचार : Munh Ki Durgandh Ke Karan Lakshan Aur Upchar

मुंह की दुर्गंध के कारण व लक्षण

मुंह से दुर्गंध का वास्तविक कारण मुख के किसी प्रकार की खराबी आना नहीं है बल्कि यह छाती और पेट के विकार द्वार उत्पन्न होती है। इसके अलावा भोजन करने के पश्चात दातों की सही ढंग से सफाई न करना भी इस रोग का दूसरा प्रमुख कारण है। सफाई के अभाव में दांंतों में फंसे भोजन के कण कुछ समय बाद सड़ने लगते हैं जिससे मुख से तेज दुर्गंध आने लगती है। इस रोग से बचने के लिए दांतों की नियमित सफाई करना आवश्यक है।

उपचार

मुनक्का : मुनक्का व इलायची के 5 – 5 नग लें। एक मुनक्के के बीज निकालकर उसमें इलायची के दाने भर देंं। इसे जल्दी जल्दी निगले नहीं बल्कि आधा पौने घंटा चबाने चूसते रहें। इसके रस से छाती व पीठ की दुर्गंध पैदा करने वाले विकार दूर हो जाएंगे तथा कुछ समय बाद बिना मुनक्का व इलायची के ही मुुख सुगंधित रहेगा।

नींबू : नींबू की शिकंजी बनाकर पीने से मुख की दुर्गंध दूर हो जाती है।

अनार : मुख से दुर्गंध आने पर 4 ग्राम अनार के पिसे हुए छिलकों की फांंकी सुबह-शाम पानी से लीजिए। साथ ही अनार के छिलके उबालकर उससे कुल्ले करें। मुख की दुर्गंध निश्चित रूप से दूर हो जाएगी।

अदरक : एक गिलास गर्म पानी में लगभग आधा चम्मच अदरक काा रस मिलाकर कुल्ले करने से मुंह की दुर्गंध दूर हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.