मूली के फायदे-muli ke fayde-in hindi

मूल एक बहुत उपयोगी और औषधि के गुण रखने वाली शाक वर्ग की चीज है। जिसका उपयोग सामान्यता सलाद और तरकारी के रूप में किया जाता है। मूली गर्मी ऋतु में उगने वाली साग है। मूली छोटी और बड़ी दो प्रकार की होती है। यह अलग-अलग आकार की होती तथा सारे भारत में पैदा होती हैं।

मूली के घरेलु उपचार

10 कच्ची मूली पत्ते सहित खाने से कब्ज दूर होती है।

2. दर्द गुर्दा मूली का रस 125 मिली में खरल कर चने का आकार की गोली बनाकर सुबह-शाम पानी के साथ खाने से दर्द गुर्दा में लाभ होता है।

3. कच्ची मूली कोमल पत्ती सहित काट कर कम से कम पानी में उबालें बनने पर बिना मसाला डाले रोजाना दिन में तीन बार जितनी खा सके खातिर है बार-बार होने वाले गर्भपात में लाभ होता है।

4. मूली के बीजों को उसके पत्ते के रस में पीसकर चर्म रोग पर लेप लगाने से आराम मिलता है।

5. मधुमेह प्रातः भोजन से पूर्व पेट भर मूली खाने या रस पीने से पेशाब में आने वाली शुगर बंद हो जाएगी

6. प्रदर रोग मूली का रस नित्य दो बार पीने से प्रदर रोग बंद हो जाता है।

7. सूखी मूली का काढ़ा बनाकर उसमें जीरा और नमक डालकर पीने से खांसी और दमा में राहत मिलती है।

8. मूली पर नमक काली मिर्च डालकर खाना खाते समय रहने से कब्ज और पेट में गैस होने पर राहत मिलती है।

9. खट्टी डकार होने पर मूली के रस में मिश्री मिलाकर पीने से खट्टी डकार से छुटकारा मिलता है।

10 मूली के बीजों को नींबू के रस में पीसकर लगाने से दाद ठीक होती है.।

11. एक गिलास मूली के रस में एक चुटकी सादा नमक डालकर गरमागरम गुनगनीर को गरारे करने से गले की सूजन दिखाओ तथा दर्द में आराम मिलता है।

12. पायरिया मूल्य पर काली मिर्च डालकर खाने से पायरिया में लाभ होता है एक गिलास पानी में 4 चम्मच मूली का रस मिलाकर कुल्ला करने से भी पायरिया में लाभ मिलता है।

13. रतौंधी में पालक और मूली का रस समान मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम पीने से रतौंधी में लाभ होता है।

14. ज्यादा शराब पी लिए हो तो एक कम मूली का रस पिला दे नशा से उतर जाएगा

15. पथरी में 35 ग्राम मूली के बीज आधार लीटर पानी में उबालें जब पानी आधा रह जाए छानकर पीएं कुछ दिन प्रयोग करने से पथरी गल कर निकल जाती है।

16. जले हुए अंग पर मूली पीसकर लेप करें जरा दूर होगी

17. हिचकी आने पर मूली के टुकड़े एक गिलास पानी में उबालकर पीने से हिचकी स्वस्थ कष्ट में लाभ होता है।

18. मूली खाने से मांसपेशियों का दर्द दूर होता है।

19 मूली का रस निकालकर कुछ देर रखें और शीशी में भर लें इसके दो से तीन बूंद आंखों में डालने से जला फुला नेत्र रोग ठीक हो जाते हैं।

20. नकसीर हो जाने पर मूली पर नींबू का रस डालकर रोजाना खाने से बार-बार लक्ष्मी आना बंद हो जाता है।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *