मधुर आवाज के कारण, लक्षण और उपचार : Madhur Avaj Ke Karan Lakshan Aur Upchar

मधुर आवाज के कारण व लक्षण

आवाज में मिठास हो तो सभी मोहित हो जाते हैं। बचपन में सभी की आवाज मधुर होती है किंतु बाद में अत्यधिक जोर से बोलने, भाषण देने, गर्म और ठंडा पदार्थों के अत्यधिक सेवन, वर्ष तथा दूषित व विषैले आहार के सेवन से आवाज खराब हो जाती है।

उपचार

जामुन : जामुन की गुठलियों को पीसकर शहद में मिलाकर चूसें। इस चूर्ण से आवाज का भारीपन खत्म हो जाता है। निरंतर उपयोग करने से बिगड़ी हुई आवाज ठीक हो जाती है। अधिक बोलने का कार्य करने वालों, गाने वालों के लिए या चमत्कारी औषधि है।

शलगम : शलगम की सब्जी खाने से आवाज मधुर हो जाती है।

आंवला : आंवले को सुखाकर उसे बारीक चूर्ण के रूप में पीस लें। फिर नियमित रूप से एक चम्मच चूर्ण को पानी के साथ पीने से आवाज में मधुरता आ जाती है।

नींबू : गर्म पानी में नींबू मिलाकर गरारे करने से आवाज साफ होती है।

अदरक : अदरक में छेद करके उसमें एक चने के बराबर हींग भरकर कपड़े में लपेटकर सेक लें। इस सिके अदरक की मटर के दाने के बराबर गोलियां बना लें। दिन में एक एक गोली 8 बार चूसें। यह आवाज को प्रभावी ढंग से मधुर बना देने वाला नुस्खा है।

अदरक का रस शहद में मिलाकर चाटने से आवाज मधुर होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.