नीबू के फायदे/Lemon benefits in hindi

नींबू को फलों की तरह महत्व नहीं दिया जाता है लेकिन नींबू में संतरा से मौसमी चकोतरा अनार आ से अधिक मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है गाजर मूली खीरा ककड़ी प्याज आज के सलाद का नींबू में के रस के बिना कोई विशेष स्वाद नहीं है नींबू का रस सलाद को स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ उसके पौष्टिक गुणों को भी विकसित करता है विदेशों में हुए अनुसंधान से ज्ञात हुआ है कि नींबू जुकाम से सुरक्षा के लिए सबसे गुणकारी होता है विटामिन सी से आज के जीवाणुओं को नष्ट करके रोग से मुक्त प्रदान करता है नींबू के रस की शिकंजी ग्रीष्म ऋतु में तीव्र प्याज को शांत करती है नींबू के रस से विकार नष्ट होते हैं।

 

गुणकारी औषधीय उपयोग

1. नींबू के रस में जैतून का तेल मिलाकर चेहरे और हाथ पांव पर मलने से चेहरे के दाग धब्बे मुंहासे नष्ट होते हैं इसके निरंतर इस्तेमाल से झुरिया भी नष्ट होती हैं।

2. नींबू के 10 ग्राम रस में नारियल काजल 10 ग्राम मात्रा में मिलाकर बालों में अच्छी तरह लगाएं 40 से 45 मिनट के बाद बालों को जल्द से साफ कर लें कुछ महीनों तक ऐसा करने से बालों का टूटना बंद हो जाता है बाल लंबे और घने भी होते हैं।

3. जल में नींबू का रस और थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर स्नान करने से शरीर से पसीने की दुर्गंध व गंदगी नष्ट होती है और त्वचा का सौंदर्य भी निखरता है।

4. नींबू का रस गुलाब जल टमाटर का रस और पपीते का गूदा मिलाकर लेप बनाएं इसलिए कुछ ही रेवा हाथ पांव में लगाकर 10 से 15 मिनट बाद हल्के जल से साफ करने पर त्वचा में बहुत निखार आता है।

5. नींबू का 10 ग्राम रस ढाई सौ ग्राम जल में मिलाकर प्रातः काल सेवन करने से कोष्ठ बंधता शीघ्र नष्ट होती है।

6. नींबू के 5 ग्राम रस में अदरक का रस मिलाकर पीने से उदर शूल नष्ट होता है

7. नींबू के रस को नारियल के तेल में अच्छी तरह मिलाकर मालिश करने से खाज खुजली की विकृति नष्ट होती है।

8. नींबू के रस में इमली के बीजों के छिलके उतार कर पीस लें इसका लेप करने से दाद जल्दी नष्ट होता है।

9.नींबू के 20 ग्राम रस में शकर मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से रक्त पित्त की विकृति नष्ट होती है।

10. नींबू को काट कर उस पर सेंधा नमक डालकर चूसने से अजीब की विकृत नष्ट होती है भोजन से पहले चूसने से अरुचि भी नष्ट होती है।

11. ढाई सौ ग्राम जल में 10 ग्राम नींबू का रस और शक्कर मिलाकर पीने से पित्त प्रकृति से उत्पन्न और जलन नष्ट होती है ।

12.नींबू के रस में सेंधा नमक और काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से अमाशय और आंत्रो में छुपी क्रीम नष्ट होते हैं।

13. नींबू के रस में सेंधा नमक मिलाकर सेवन करने से उतर के विकार नष्ट होते हैं उधर की दूषित वायु जैसे कि गैस निष्कासित होती है।

14. ग्रीष्म ऋतु में नींबू के रस को शीतल जल में मिलाकर चीनी डालकर शिकंजी बनाकर पीने से उष्णता नष्ट होती है और प्यास शांत होती है।

15. गर्भवती स्त्रियों को प्रातः नींबू का रस जल में मिलाकर पिलाने से बामन विकृत से राहत मिलती है और भोजन की पाचन क्रिया सरलता से होती है।

16. रक्ताल्पता की विकृति में नींबू और टमाटर का रस सेवन करने से बहुत लाभ होता है।

17. ग्रीष्म ऋतु में अधिक गर्मी के कारण घबराहट और बेचैनी का अनुभव होने पर नींबू के रस की शिकंजी बनाकर पीने से बहुत आराम मिलता है।

18. नींबू की शिकंजी पीने से नाक से रक्त स्त्राव यानी नकसीर की विकृति नष्ट होती है|

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *