खांसी के कारण लक्षण और उपचार : Khansi Ke Karan Lakshan Aur Upchar

खांसी के कारण

खांसी एक सामान्य रोग है जो किसी को भी हो सकता है। इसके अनेक कारण हो सकते हैं- जैसे सर्दी, जुखाम फ्लू, एलर्जी व गले का संक्रमण। इनके अलावा अस्थमा, ब्रोंकाइटिस व फेफड़ों का संक्रमण भी खांसी को जन्म दे सकते हैं। आयुर्वेद के अनुसार वात, पित्त व कफ बिगड़ने से खांंसी का जन्म होता है।

लक्षण

सामान्य रोग की भांति खांसी के लक्षण भी सामान्य ही होते हैं। जिनमें गले में खुश्की, पीड़ा, आंख नाक से पानी बहना, पेट का दुखना, हाथ – पैरों में जकड़न, आवाज बैठना, कफ आना, सीने में जलन व दर्द प्रमुख हैं।

उपचार

अमरूद : कफयुक्त खांसी में अमरूद को आग में भूनकर खाने से लाभ होता है।

नारियल : सूखी खांसी में नारियल के दूध में एक चम्मच खसखस का दूध और एक चम्मच शहद मिलाकर रात को सोने से पहले पीएं। इस उपचार से रात भर खांसी नहीं होगी। ज्यादा सिगरेट पीने वालों को इस उपचार से काफी लाभ होगा।

खुबानी : खुबानी के सेवन से खांंसी में लाभ होता है।

नारंगी : प्रतिदिन एक गिलास नारंगी का रस पीने से खांसी ठीक हो जाती है। स्वादानुसार इसमें नमक या मिश्री भी डाल जा सकती है।

मौसमी : मौसम के रस में आधा भाग गर्म पानी व भुने हुए जीरे का चूर्ण और सोंठ मिलाकर पीने से खांसी ठीक हो जाती हैं।

मुनक्का : खांसी और जुखाम बार-बार होता रहता हो तो साफ किए हुए मुनक्का के साथ बादाम तथा काली मिर्च पीसकर थोड़े मक्खन में मिलाकर रात को सोते समय खाएं। इसके पश्चात प्रातः काल दूध में पीपल व काली मिर्च उबालकर चुटकी भर सोंठ डालकर पी लें।

आम : पके हुए आम को गर्म राख में दबाकर भून लें तथा ठंडा होने पर चूस लें, खांसी तुरंत  ठीक हो जाएगी।

अदरक : 10 ग्राम अदरक का रस व10 ग्राम शहद को गर्म करके दिन में दो बार चाटें। यह खांसी के लिए बढ़िया दवा साबित होगी। अदरक का रस व तालीसपत्र मिलाकर चाटने से खांसी ठीक हो जाती है।

अनार : सौ ग्राम अनार के छिलके लेकर उसमें 15 ग्राम सेंधा नमक मिलाकर गोलियां बना लें। एक एक गोली दिन में तीन बार चूसने से खांसी गायब हो जाती है।

केला : केले का शरबत दो – दो चम्मच 1 – 1 घंटे के अंतराल पर पीने से पुरानी खांसी ठीक हो जाती है।

नींबू : नींबू को काटकर उसमें नमक, काली मिर्च व शक्कर भरकर गर्म कर लें। इसे चूसने से खांसी में लाभ मिलता है।

गुनगुने पानी में नींबू निचोड़ कर पीने से खांसी ठीक हो जाती है।

सेव : सेव को पकाकर उसका एक गिलास रस निकालकर मिश्री मिलाकर प्रातः पीने से पुरानी खांसी ठीक हो जाती हैं।

प्रतिदिन नियमित रूप से पके हुए सेव खाते रहने से खांसी में लाभ होता है।

अंगूर : अंगूर फेफड़ों को शक्ति प्रदान करते हैं। इसके नियमित सेवन से खांसी ठीक हो जाती है।

आंवला : एक चम्मच पिसा हुआ आंवला एक चम्मच शहद में मिलाएं तथा उसे खांसी के दौरान चाटें, लाभ होगा।

शलगम : शलगम को उबालकर, छानकर, शक्कर मिलाकर पीने से खांसी ठीक हो जाती है।

बादाम : यदि खांसी मे बलगम नहीं आता हो तो बादाम को चबा चबाकर खाने से बहुत आराम मिलता है। खांसी बार-बार उठती हो तो 5 बादाम भिगोकर, छीलकर तथा उतनी ही मात्रा में मिश्री मिलाकर सुबह-शाम चाटें। खांसी ठीक हो जाएगी।

गन्ना : एक गिलास गन्ने का रस नित्य दो बार पीएंं, सूखी खांसी में भरपूर लाभ होगा।

तरबूज : सूखी खांसी में तरबूज का सेवन लाभकारी है।

खजूर : खजूर के सेवन से सूखी खांसी ठीक हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.