कमजोर दृष्टि के कारण, लक्षण और उपचार : Kamjor Darsti Ke Karan Lakshan Aur Upchar

कमजोर दृष्टि के कारण व लक्षण

आंखों के विभिन्न रोगों का भोजन के पोषक पदार्थों की कमी विशेषकर विटामिन ए की कमी के कारण आंखों की ज्योति में छेड़ता उत्पन्न होती हो जाती है इस रोग में रोगी को कम दिखाई देने लगता है आंखों की यह कमजोरी निकट वा दूर दृष्टि दोष के रूप में भी परिलक्षित हो सकती हैं।

उपचार

संतरा : दो मीठे संतरों का रस निकाल लें। और उसमें एक चौथाई छोटा चम्मच काली मिर्च का पाउडर मिलाकर पीएं। एक माह तक लगातार यह रस पीने से दृष्टि पुनः सबल हो जाती हैं।

बेर : बेर ठंडा रक्तशोधक है। जो नेत्रज्योति बढ़ाता है।

गाजर : प्रतिदिन गाजर का रस पीने से नेत्र ज्योति बढ़ती है। गाजर आंखों के लिए काफी असरकारी होता है, ऐसा माना जाता है कि प्रतिदिन गाजर का रस पीने वाले की आंखें कभी कमजोर नहीं होती और न ही उसकी आंखों में किसी प्रकार का रोग होता है।

आंवला : आंवले के प्रयोग से आंखों की दृष्टि बढ़ती है। 250 ग्राम पानी में 6 ग्राम सूखा आंवला रात को भिगो दें। प्रातः इस पानी को छानकर आंखें धोएं। इससे आंखों के समस्त रोग दूर होने के साथ-साथ नेत्र ज्योति में भी वृद्धि होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.