जुकाम के कारण, लक्षण और उपचार : Jukam Ke Karan Lakshan Aur Upchar

जुकाम के कारण व लक्षण

ठंड या फ्लू, नाक की एलर्जी तथा नाक की अंदरूनी सतह पर संक्रमण या खुजली के कारण जुखाम हो जाता है। गैस, तेल से लगने वाली आग या वायु में उपस्थित रसायनों से होने वाली जलन या खुजली से भी जुकाम हो सकता है। वस्तुतः नाक व गले से होने वाले श्लेष्मा के स्त्राव को जुखाम कहा जाता है। इस रोग में नाक से पतला व पारदर्शी अथवा गाढ़ा व अपारदर्शी श्लेष्मा बहता रहता है, श्वास लेने में भी कठिनाई होती है।

उपचार

अमरूद : अमरूद में विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा होती है। अतः जिन लोगों को बार बार जुकाम हो जाता है उन्हें मौसम के दिनों में अमरूद खाने चाहिए। इससे साल भर के लिए जुकाम से छुटकारा मिल जाता है। आमतौर पर जुकाम सर्दियों में होता है और इस मौसम में अमरुद सहज उपलब्ध रहते हैं परंतु अमरुद बीज रहित ही खाया जाए।

इमली : इमली को गर्म पानी में उबालकर व छानकर थोड़ी सी काली मिर्च का चूर्ण और गर्म घी मिलाकर पीने से जुकाम में काफी राहत मिलती हैं।

जयाफल :  जुुकाम की स्थिति में जब नाक हरदम बहती रहती हो तो जायफल का प्रयोग करने से लाभ होता है।

मुनक्का : यदि बार-बार जुखाम हो जाता हो तो मुनक्का का प्रयोग करें। साफ किए हुए मुनक्का के साथ काली मिर्च व बादाम पीसकर थोड़ी मक्खन में मिलाकर रात्रि के समय खाएं। जुुकाम बंद हो जाएगा। यदि इस उपाय को अपनाने के बाद सुबह दूध में पीपल और काली मिर्च उबालकर चुटकी भर सोंंठ भी डालकर पिएंं तो स्थायी रूप से जुुकाम खत्म किया जा सकता है।

शहतूत : जुखाम के रोगियों को शहतूत का सेवन करना चाहिए। इससे जुकाम समाप्त हो जाता है।

नींबू : गुनगुने पानी में नींबू निचोड़ कर पीने से जुकाम ठीक हो जाता है। यदि जुकाम तेज हो तो एक गिलास गर्म पानी में एक नींबू व थोड़ी मात्रा में शहद डालकर रात को सोते समय पीएं।

नारंगी : नारंगी के रस का एक गिलास प्रतिदिन सेवन करने पर जुुकाम नहीं होता।

मौसमी : मौसमी के रस को हल्का सा गर्म करके 5 – 6 बूंद अदरक का रस डालकर पीने से भी जुकाम समाप्त हो जाता है।

सेव : मस्तिष्क की दुर्बलता के कारण भी कई बार जुकाम हो जाता है. रोगियों को दवाइयों से भी लाभ नहीं मिलता है। ऐसे लोगों को जुकाम ठीक करने के लिए भोजन से पहले छिलके सहित सेव खाना चाहिए। दो-तीन दिन तक सेव खाने से जुकाम स्वतः ही समाप्त हो जाता है।

अंजीर : 5 अंजीर पानी में उबालकर छान लें।यह पानी सुबह शाम पीएं। दो दिन मे जुकाम   खत्म हो जाएगा।

गाजर : 310 ग्राम गाजर के रस में 125 ग्राम पालक का रस मिलाकर पीएं। जुुकाम बंद हो जाएगा।

अंगूर : प्रतिदिन कम से कम 50 ग्राम अंगूर खाएं। यदि सप्ताह भर भी नियमित यह उपचार अपना लिया तो जुकाम नहीं होगा, यह सफलतापूर्वक आजमाया हुआ नुस्खा है।

अदरक : अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े, अजवाइन, मेथीदाना और हल्दी प्रत्येक आधा-आधा चम्मच एक गिलास पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए तब स्वादानुसार थोड़ा गुड़ मिलाकर छानकर रात्रि को सोते समय यह काढा पी जाएं। कैसा भी जुकाम हो तुरंत ठीक हो जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.