जोड़ो मे दर्द के कारण लक्षण और उपचार : Jodo Me Dard Ke Karan Lakshan Aur Upchar

जोड़ो मे दर्द के कारण व लक्षण

जोड़ों का दर्द बुढ़ापे की एक आम समस्या है। इस रोग के लिए कब्ज पूर्णतः जिम्मेदार है। कब्ज रहने से वायु कुपित होकर जोड़ों का दर्द उत्पन्न करती है। इसके अलावा अनियमित आहार-विहार, चिकने व तले हुए चटपटे पदार्थों का अधिक सेवन, परस्पर विरोधी भोजन व पेट में गैस बढाने वाले पदार्थों के सेवन से भी जोड़ों में दर्द उत्पन्न हो जाता है।

उपचार

नींबू : जोड़ों पर नींबू का रस मलने से जोड़ों का दर्द व उनमें आई सूजन समाप्त हो जाती है। वास्तव में नींबू रस आमाशय व आंतों में आई अम्लता की अधिकता को खत्म कर देता है, जिससे शरीर की कमजोरी भी दूर हो जाती है।

नारंगी : नारंगी के रस में नियमित सेवन से जोड़ों के दर्द में काफी लाभ होता है।

चुकंदर : चुकंदर में जोड़ों के दर्द को ठीक करने के गुण विद्यमान है। इसका नियमित सेवन जोड़ो के दर्द को ठीक कर देता है।

ईसबगोल :  ईसबगोल के बीजों को भिगोकर उनसे बनाई हुई पुलटिस शरीर में जोड़ों के दर्द के लिए उपयुक्त मानी जाती है। जब शरीर के जोड़ों में सूजन अथवा भयंकर दर्द उत्पन्न हो तो ईसबगोल की पुलटिस को बांधने से कुछ ही पलों मे आराम मिलता है।

अखरोट : सुबह खाली पेट 3 से 4 अखरोट की गिरीयां निकालकर मात्रा कुछ दिन खाने से ही घुटनों का दर्द सदैव के लिए समाप्त हो जाता है।

जायफल : जोड़ों के दर्द में जायफल को तिल के तेल में भली प्रकार भून लें तथा ठंडा होने पर दर्द वाले स्थान पर इसकी मालिश करें, सारा दर्द दूर हो जाएगा।

अमरुद : अमरुद के कोमल पत्ते को तोड़कर भली प्रकार से धो लें, तत्पश्चात इन्हें पीसकर पानी में घोलकर छान ले व रोगी को पिला देंं। 1 सप्ताह में ही जोड़ो का दर्द समाप्त हो जाएगा।

अंजीर : जोड़ों के दर्द में अंजीर का सेवन बहुत उपयोगी है।

नारियल : नारियल की गिरी खाते रहने से घुटनों के दर्द की सभी संभावनाएं समाप्त हो जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.