हिचकियां आने के कारण, लक्षण और उपचार : Hichkiya Ane Ke Karan Lakshan Aur Upchar

हिचकियां आने के कारण व लक्षण

हिचकियां आने का वास्तविक कारण है आहार नलिका में आई रुकावट। वैसे हिचकियां आना नुकसानदायक नहीं है, किंतु यदि हिचकियां तेज आएं तथा रुके नहीं तो इसमें रोगी की जान भी जा सकती है या बेहद चिंताजनक स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

उपचार

नींबू : एक चम्मच नींबू का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से हिचकी बंद हो जाती है इसमें स्वादानुसार काला नमक भी मिलाया जा सकता है।

गन्ना : गन्ने का रस पीने से हिचकियां पूर्णतः बंद हो जाती है।

अदरक : हिचकियों का प्रभावी उपचार करने के लिए ताजा अदरक के टुकड़ो को चूसना कराकर औषधि है। इससे तत्काल लाभ मिलता हैं।

ब्लैकबेरी : ब्लैकबेरी खाने से हिचकियां बंद हो जाती हैं।

शरीफा : हिचकी में शरीफे का सेवन भी लाभप्रद होता है।

इमली : इमली के पानी या इमली को खाने से हिचकियां आना बंद हो जाती है।

जयाफल : पानी के साथ जायफल को घिस कर पीने से हिचकियां रुक जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.