हैण्डबाल खेल के नियम के बारे मे रोचक तथ्य : Handball Games About Facts In Hindi

हैण्डबाल खेल के नियम

1- यदि आक्रामक खिलाड़ी गोल मारने का प्रयास कर रहा हो और उस समय यदि सुरक्षात्मक दल का कोई खिलाड़ी उसे 6 मीटर डी की लाइन काट करते हुए छूता है तो ऐसा करने वाले खिलाड़ी के विरोधी दल को पेनल्टी दी जाती है।

2- यदि आक्रमण करने वाले दल के खिलाड़ी द्वारा 6 मीटर की लाइन कट है तो डिफेन्स करने वाले खिलाड़ी को उस जगह से फ्री थ्रो दिया जाता है।

3- गेंद खेलते समय कोई भी खिलाड़ी गोलकीपर बन सकता है परंतु उसे जर्सी पहनना अनिवार्य है।

4- गेंंद खेलते समय खिलाड़ी गेंद को एक हाथ से ड्रिब्बल या दोनों हाथ से पास करते हुए आगे या पीछे बढ़ सकते हैं।

5- गेंद को 3 सेकंड के बाद कोई भी खिलाड़ी हाथ में नहीं रख सकता है।

6- खिलाड़ी गेंद को लेकर 3 स्टेप ले सकता है।

7- गेंद घुटना या घुटने के नीचे भाग से लग जाए तो फाउल होता है, जिस जगह फाउल   होता है उसी जगह से विरोधी दल को थ्रो मिलता है।

8- जिस खिलाड़ी को या उसके शरीर स्पर्श होकर बाहर जाती है उसके विरोधी दल को साइड थ्रो या थ्रो इन मिलते हैं।

9- खेल की शुरुआत रेफरी की सीटी से होती हैं, जिस टीम को खेल प्रारम्भ करना होता हैं। उस दल के सभी खिलाड़ी हाफ मे ही होना आवश्यक हैं तथा बिरोधी दल के खिलाड़ी अपने हाफ मे।

10-  प्रत्येक गोल के बाद की रेफरी की सीटी से ही खेल प्रारंभ होता है। उस समय भी प्रत्येक खिलाड़ी को अपने अपने हाफ में रहना आवश्यक है।

11- प्रत्येक थ्रो के समय विरोधी टीम के खिलाड़ी का 3 मीटर दूरी पर होना आवश्यक है।

12- कोई भी खिलाड़ी विरोधी खिलाड़ी के हाथ से गेंद नहीं छीन सकता हैं। दूसरे दल के खिलाड़ी को हाथ या पैर से ढकेलना, विरोधी दल के खिलाड़ी में रुकावट करना। ऐसा करने पर उसको चेतावनी दी जा सकती है या 2 या 5 मिनट के लिए बाहर किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.