गर्भाशय की दुर्बलता के कारण लक्षण और उपचार : Garbhshya Ke Durblta Ke Karan Lakshan Aur Upchar

गर्भाशय की दुर्बलता के कारण

गर्भाशय की दुर्बलता के कई कारण हो सकते हैं। ऋतुकाल में सहवास पर्याप्त पोषक पदार्थों की कमी, मादक द्रव्यों का अतिसेवन, अतिकामुकता व रक्त प्रदर के कारण गर्भाशय कमजोर हो जाता है। प्रसव पश्चात उपयुक्त पोषण पदार्थों का सेवन न करने से भी यह समस्या उत्पन्न होती है।

लक्षण

सिंघाड़ा : सिंघाड़े के सेवन से गर्भाशय की दुर्बलता दूर हो जाती हैं तथा गर्भाशय की क्षमता में वृद्धि होती हैं।

नाशपाती : कई महिलाओं के गर्भाशय से गंदे पानी का स्त्राव होता रहता है, जिससे गर्भ ठहरने मे तो परेशान आती ही हैं, साथ में अन्य रोगों को भी बढ़ावा मिलता है। इस समस्या के निदान के लिए नाशपती सर्वोत्तम औषधि है। इसके नियमित सेवन से यह समस्या जड़ से  खत्म हो जाती है।

गाजर : गर्भाशय की दुर्बलता दूर करने के लिए नियमित एक गिलास  गाजर का रस पीएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.