गले में खराश के कारण, लक्षण और उपचार : Gale Me Kharash Ke Karan Lakshan Aur Upchar

गले मे खराश के कारण व लक्षण

गले में खराश होना सामान्य बात है। वैसे तो यह खराश हानिकारक नहीं होती तुरंत यह कई घातक रोगों के परिणाम स्वरूप उभरने वाला सामान्य लक्षण हैं। इस रोग में गले में बेहद तेज दर्द उत्पन्न होता है तथा भोजन व पानी को निगलते समय दर्द महसूस होता हैं। यह रोग फ्लू, सर्दी, चेचक व कंठमाला जैसे रोगों का प्रथम संकेत भी माना जाता हैं।

उपचार

गाजर : गाजर व पालक का रस समान मात्रा में मिलाकर पीने से गले की खराश खत्म हो जाती है।

अनन्नास : अनन्नास का रस रोहिणी की झिल्ली को काट देता है, गले को साफ रखता है। यह गले की खराश में प्रमुख औषधि है। ताजे अनन्नास मे पेप्सीन होता है। इससे गले की खराश में तत्काल लाभ मिलता है।

अनार : 10 ग्राम अनार के छिलके लगभग 100 ग्राम पानी में उबालिए। इसी पानी में 2 लौंग भी पीस कर डाल दीजिए। जब पानी आधा रह जाए तो जरा सी फिटकरी घोलकर कुनकुना होने दीजिए और घूंट घूंट लेकर गले के अंदर तक गरारे कीजिए। एक  दो घंटे बाद तीन चार बार पुनः गरारे करें। गले की सारी खराश बाहर आ जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.