कान दर्द का रामबाण इलाज/Ear pain treatment in hindi

 

कणशूल (कान में फुंसी होने पर) बच्चे बहुत रोते हैं अधिक छोटे बच्चे अपने कणशूल के विषय में कुछ बता भी नहीं पाते तो माता-पिता अधिक परेशान हो जाते हैं ऐसे में डॉक्टर के पास जाना पड़ता है कान में फुंसी होने से बहुत दर्द होता है दर्द के कारण बच्चे सो भी नहीं पाते कुछ देर सोने के बाद जाग जाते हैं ऐसे में अल्प आयु के बच्चे बार-बार उस कान को स्पर्श करने की कोशिश करते हैं और करते ही जोर से रोने लगते हैं क्योंकि इससे उनके कान दर्द का अनुभव किया जा सकता है अल्प आयु के बच्चों को अनेक कारणों से  कणशूल हो सकता है बच्चे को स्नान कराते समय कुछ जल की बूंदें कान में चली जाती है तो कणशूल की उत्पत्ति होती है सर्दी लगने से भी कान में दर्द होने लगता है

गुणकारी औषधीय उपयोग

1. सर्दी के कारण कणशूल होने पर तिल के तेल में लहसुन की तीन चार कलियों को जलाकर उस तेल को छानकर बूंद बूंद कान में डालने से दर्द बंद होता है ।

2.सरसों का तेल गर्म करके एक से दो बूंद कान में डालने से कान का दर्द नष्ट हो जाता है।

3.सरसों के तेल में हींग मिलाकर आग पर देर तक गर्म करके कुछ देर बाद हल्के गर्म तेल की दो बूंद कान में लगाने से कान का दर्द गायब हो जाता है ।

4.सुदर्शन के पत्तों को हल्का गर्म करके उसका रस बूंद बूंद कान में डालने से कान का दर्द नष्ट होता है।

5.पान के रस को हल्का सा गर्म करके दो बूंद सुबह शाम डालने से सर्दी के कारण उत्पन्न कान का दर्द नष्ट होता है।

6.चंदन का तेल गर्म करके एक से दो बूंद कान में डालने से फूल का निवारण होता है ।

7 जैतून के पत्तों का रस निकालकर उस रस को हल्का सा गर्म करके बच्चों के कान में डालने से कान का दर्द नष्ट होता है।

8.तुलसी के पत्तों का रस हल्का सा गर्म करके दो बूंद कान में डालने पर सूल शीघ्र नष्ट होता है ।

9.सरसों के 10 ग्राम तेल में दो से तीन लोग देर तक उबालकर तेल को छानकर एक से दो बूंद कान में डालने से सूल नष्ट होता है ।

10.अलसी के तेल को हल्का सा गर्म करके एक से दो बूंद कान में डालने से कंसोल नष्ट होता है ।

11.अगर किसी बड़े के कान में दर्द है तो रमजान तंबाकू के रस की दो बूंद डालने से कान का दर्द ठीक होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *