दाँत निकलने के घरेलू नुक्से/Daat nikalne ke gharelu nukhse

दांत निकलते बच्चों को रोग – विकार होना आवश्यक नहीं होता है सभी बच्चों को दांत निकलते समय अतिसार, उदरशूल ( पेट में दर्द ) कब्ज आदि रोग विकास नहीं होते हैं दांत निकलते समय माता-पिता की लापरवाही उचित देखभाल नहीं होने से बच्चे विभिन्न रोग विकारों से पीड़ित होते हैं दांत निकलते समय तक कुछ बच्चे घुटने – घुटने चलने लगते हैं ऐसे में बच्चे आसपास की कोई चीज उठाकर चलाने की कोशिश करते हैं मसूड़ों से दांत निकलते समय बच्चों को रबड़ के खिलौने चबाने से कुछ आराम मिलता है लेकिन मसूड़ों में दर्द होने से बच्चे रोने लगते हैं बच्चों को स्तनपान कराने वाली युवतियां भी बच्चों को काटने से बहुत परेशान हो जाती हैं क्योंकि बच्चे काटने की कोशिश करते हैं कुछ स्त्रियां स्तनपान बंद करा कर बच्चों को बोतल में दूध डालकर पिलाने लगती हैं बोतलों को अच्छी तरह साफ नहीं करने से गंदी बोतलों में बच्चों को दूध पिलाने से बच्चों की पाचन क्रिया वितरित होने से दांत दस्त हो सकता है स्तनपान कराने वाली स्त्रियां जब उसने मिर्च मसालों से बने खाद्य पदार्थों का सेवन करती हैं तो बच्चों को बहुत हानि होती है ऐसे में बच्चे को पेट दर्द अधिक होता है बच्चों को मलद्वार के रोग विकार होते हैं स्त्रियों की लापरवाही से अधिक रोग विकारों की उत्पत्ति होती है।

गुणकारी औषधि उपयोग

1.दांत निकलते समय भुना हुआ सुहागा और मधु मिलाकर मसूड़ों पर धीरे-धीरे मलने से दांत सरलता से निकलते हैं मसूड़ों की पीड़ा भी इससे कम होती है।

2.दांत निकलते समय यदि ग्रीष्म ऋतु हो तो बच्चे को दिन में दो से तीन बार थोड़ी-थोड़ी मात्रा में मट्ठा पिलाने से दांत निकलने में पीड़ा नहीं होती है ।

3.बच्चे को वंशलोचन और मधु मिलाकर चटाने से दांत अधिक सुंदर निकलते हैं और दातों की पीड़ा भी कम रहती है।

4.तुलसी के पत्तों को कूट पीसकर रस निकाल लें 5 ग्राम तुलसी के रस में मधु मिलाकर मसूड़ों पर लगाने से पीड़ा कम होती है और दांत सरलता से निकलते हैं इस मिश्रण को बच्चों को चढ़ाने से भी लाभ होता है।

5.दांत निकलते समय बच्चों को अंगूर का रस पिलाने से दांत सरलता से निकलते हैं अंगूरों में कैल्शियम और फास्फोरस पर्याप्त मात्रा में होता है इनसे बच्चे के दांत अधिक स्वच्छ व मजबूत होते हैं ।

6.प्रतिदिन बच्चों को संतरे का रस पिलाने से दांत अधिक मजबूत होते हैं और सरलता से ही निकलते हैं।

7.मट्ठा में थोड़ा सा काला नमक मिलाकर बच्चों को पिलाने से दांत सरलता से निकलते हैं और उधर उसूल भी नष्ट होता है।

8.दांत निकलते समय बच्चों को अतिसार होने पर बच्चों को डोंड दूध पिलाना चाहिए भैंस के दूध में अधिक चिकनाई होने से अतिसार होता है।

9.दांत निकलते समय स्तनपान कराने वाली स्त्रियों को गरिष्ठ व वात विकार उत्पन्न करने वाले खाद्य पदार्थ व सब्जी का सेवन नहीं करना चाहिए ।

10.पिपल्ली का 1 ग्राम चूर्ण 5 ग्राम मधु में मिलाकर मसूड़ों पर मलने से पीड़ा कम होती है दांत सरलता से निकलते हैं।

11.दांत निकलते समय बच्चों को कब्ज होने या पेट में दर्द होने पर जन्म घुट्टी हल्के गर्म दूध के साथ पिलाने से भी काफी लाभ होता है।

12.दांत में दर्द होने पर लोंग का फूल रखने से दांत में कम पीड़ा होती है ।

13.दांत के दर्द होने पर कपूर को पीसकर दांत के नीचे रखने से पीड़ा काफी हद तक कम होती है और दांत में लगे कीड़े भी निकल जाते हैं ।

14.दांत के दर्द होने पर नीम के मुलायम टहनियों से मंजन करना चाहिए दांत को काफी आराम मिलता है और दांत चमकते भी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *