क्रिकेट खेल नियम के बारे में रोचक तथ्य : Cricket Games About Facts Rules In Hindi

क्रिकेट खेल नियम

1. पारियों (Innings ) – प्रत्येक टीम बारी-बारी से दो पारियां खेलते हैं। पारी का चुनाव कीड़ा स्थल में टास द्वारा होता है।

2- खेलों का पीछा पूर्ण ( Following Innings ) – प्रतियोगिता में जो टीम पहले बल्लेबाजी करती है और 5 दिनों के मैच में 200 रनों द्वारा अथवा 3 दिनों के मैच में 150 रनों द्वारा, 2 दिन के मैच में 100 रनों द्वारा और 1 दिन के मैच में 75 रनों द्वारा विजयी होती है। दूसरी टीम को उसके पश्चात अपनी पारी खेलने के लिए कह सकती है।

3-घोषणा (Declaration) – बल्लेबाजी करने वाली टीम का कप्तान मैच के समय किसी भी समय पारी समाप्त करने की घोषणा कर सकता हैं।

4-  मौसम ( Atmosphere ) – मौसम के खराब होने के कारण यदि मैच देरी से आरंभ हो तो नियम के अनुसार वास्तविक मैच आरंभ होने पर लागू होते हैं।

5- स्कोरिंग ( Scoring ) – क्रिकेट में स्कोर रनों के द्वारा गिने जाते हैं। अतएव स्कोर तब होता है। जब बल्लेबाज बाल इन प्ले को हिट के बाद एक सिरे से दूसरे सिरे तक भागकर अपने  अपने स्थान सर वापिस आ जाते हैं। परंतु यदि कोई बल्लेबाज शार्ट रन दौड़ता है तो अम्पायर वन शार्ट पुकारता हैं और वह रन नहीं गिना जाता। यादि बल्लेबाज रन आउट जो जाय तो वह रन जो दौड़ी जा रहा थी, नहीं गिनी जाती।

6- गेद का खो जाना ( Lost Ball ) – यदि खेल में गेद किसी क्षेत्र रक्षक को नहीं मिलती है। या खो जाती है। तो उसको Lost Ball पुकारने का स्कोर में 6 रन जमा हो जाते हैं। परंतु यदि Lost Ball पुकारने से पूर्व 6 से अधिक रन बना लिये जाते हैं तो वह गिने जाते हैं।

7- परिणाम ( The Results ) –  वही टीम विजयी मानी जाती है, जो पारीयों के समाप्त होने पर दूसरी टीम से अधिक स्कोर बना ले। दूसरी टीम हारी हुई टीम समझी जाती है। एक दिन के मैच में प्रथम बारी के पश्चात परिणाम निकाल लिया जाता है। यदि कोई टीम मैच न जीते और न हारे तो वह मैच ड्रा कहा जाता है।

8- नो गेंद ( No Ball ) –  उचित डिलेवरी के लिए गेंद को  Ball किया जाए न कि फेंका जाये। यदि अंपायर यह अनुभव करें। गेंद ठीक नहीं फेंकी गयी तो वह नों बाल पुकारता है। तथा विकेट पर खड़ा अंपायर नो गेंद तब पुकारता है, जब बालर का पिछला पैर थ्रोविंग क्रीज से पूरा आगे निकल जाता है। अथवा जब अम्पायर को यह सन्तुष्टि नहीं होती है कि बालर का पिछला पैर रिर्टन क्रीज के अंदर है। और उसको छू नहीं रहा हैं। 

9- वाइड गेंद ( Wide Ball ) – यदि बालर  विकेट से इतनी ऊंची  या चौड़ी गेंद फेंकता है।जो कि अंपायर के नियमानुसार बल्लेबाज की पहुंच से दूर है। तो अम्पायर उसी समय वाइट बाल पुकारता है। वाइट बाल पुकारने पर गेंद डेड नहीं होती है। वाइट बाल के साथ जितने रन बने हैं वह गिने जाते हैं। यदि कोई रन न बने तो फिर भी वाइट बाल का 1 रन गिना जाता है।बल्लेबाज वाइट बाल से आउट भी हो सकता है।

10- विकेट का गिरना ( The Wicket is down ) – विकेट के गिर जाने पर गिनती गिनी जाती है। जब बालर अथवा बल्लेबाज या शरीर के साथ गुल्ली बल्ले से गिर जाती है या फिर स्टांप पृथ्वी पर गिर पड़ता है। यदि किसी खिलाड़ी के हाथ में गेंद पकड़ी हुई हो तो वह विकेट को गिरा सकता है। अथवा स्टांप को बाहर खींच सकता है।

11- अपने ग्राउन्ड से बाहर ( Out of His Ground ) – एक बल्लेबाज अपने ग्राउंड से बाहर हो जाता है। यदि उसके बल्ले अथवा शरीर का कोई भाग बैटिंग क्रीज  की लाइन से बाहर चला जाय।

12- बल्लेबाज का वापिस जाना ( Batsman Retiring ) – एक बल्लेबाज जब चाहे रिटायर हो सकता है। लेकिन ये विपक्षी टीम के कप्तान के सहमति से ही संभव है। अन्यथा वह दोबारा नहीं खेल सकता है और वह भी अगर खेल सकता है। तो किसी विकेट के गिरने पर ही खेल सकता है।

13- गेंद खेलने पर आउट ( Boald Out ) – एक बल्लेबाज गेंद आउट जब होता है। तब विकेट गेंद कठिन हो जाय। चाहे गेंद उसके पहले बल्ले या शरीर के किसी भाग पर न लगे।

14- गेंद को दो बार मारना ( Hit the Ball Twice ) – कोई भी बल्लेबाज गेंद को दो बार हिट लगाने से आउट माना जाता है।यदि उसके एक बार गेंद को रोकने के बाद वह उसे दोबारा हिट लगाये तो उसे आउट माना जाता है।

15- विकेट को हिट करना ( Hit the Ball ) – यदि बल्लेबाज खेलते समय अपने ही बल्ले से विकेटों को हिट मारकर गिरा दे। तो विकेट को हिट करने पर आउट हो जाता है।

16- एल. बी. डबल्यु. ( L. B. W.) – यदि बल्लेबाज गेंद को अपने साथ लगाने के सिवाय शरीर के किसी अंग या टांग से रोकता है। तो ( Leg before wicket) के आधार पर आउट दिया जाता है।

17- फील्ड करने से रोकना ( Obstructing the Field) – यह बल्लेबाज विरोधी टीम के खिलाड़ी का फील्ड करने से रोकने का प्रयत्न करें। तो वह आउट हो जाता है।यदि इस रुकावट से गेंद कैच होने से बच जाय। तो कैच माना जाता है। और बल्लेबाज आउट हो जाता है।

18- रन आउट ( Run Out ) – यदि बल्लेबाज दौड़ते समय अपने स्थान पर न पहुंच सके। तब विरोधी टीम का कोई खिलाड़ी गेंद लेकर विकेट गिरा दे तो वह आउट हो जाता है।यदि दोनों बल्लेबाज एक दूसरे को क्रास कर चुके हो तो जो बल्लेबाज अपनी विकेट की ओर भाग रहा हो वह आउट हो जाता है।

19- विकेट कीपर ( The Wicket Keeper) – विकेट कीपर बिल्कुल विकेट के पीछे खड़ा रहता है।जब बॉलर की ओर से आती हुई गेंद बल्लेबाज के बल्ले या शरीर को न लगे अथवा विकेट से आगे न जाए या बल्लेबाज दौड़ना आरंभ ना करें।यदि विकेट कीपर इस नियम का उल्लंघन करें तो बल्लेबाज आउट नहीं माना जाएगा।

20- फील्ड मैन ( The Fieldman ) – फिल्डमैन गेंद को शरीर के किसी भी भाग से रोक सकता है।परंतु यदि वह किसी अन्य वस्तु के साथ रोकता है तो बल्लेबाज को 5 रन प्राप्त होते हैं।यदि उसके पहले स्कोर हो चुका है तो ये 5 रन उसमें जोड़ दिए जाते हैं। अन्यथा उसका 5 रन स्कोरर बन जाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.