बैगन के फायदे-Baigan ke fyade-in hindi

प्राचीन काल में से ही भारत में बैगन की खेती होती जा रही है। बैगन का तासीर गर्म और खुश्क होती है।बैगन बहुत ही गुणकारी सब्जी है। बैगन का प्रयोग करते रहने से शरीर की शक्ति मिलती है। बैगन के पौधे ज्यादा बड़े नहीं होते यह 2 से 3 फुट तक अधिकतम ऊंचाई के होते है।

बैगन के फ़ायदे और नुक्सान 

बेगम गोल और मोटा होता है जिससे भाटा कहते हैं बैगन लंबे भी होते हैं बैगन के कुछ लंबे परंतु छोटे-छोटे तथा जगह सफेद भी होते हैं।

1. चोट लगने पर बैगन की बूटली बांधकर नसों के तनाव पर रखने से चोट समाप्त हो जाता है।

2. पसीना आने पर हाथ हो पैर में पसीना आने पर बैगन कर रस मलने से लाभ होता है।

3. सखिया विश्व अच्छा बेगम खिलाने से विष का प्रभाव खत्म हो जाता है।

4. योनि संकुचन के लिए अच्छा बैगन पीसकर योनि में लाभ मिलता है।

5. तिल्ली बढ़ जाने पर निर्मित रूप से ताजा लंबे बैंगन की सब्जी खाने से लाभ होता है।

6. यदि पथरी प्रारंभिक अवस्था में तो बैगन की सब्जी खाने से ठीक हो जाता है।

7. यदि उँगुलीओ के सिरे सूज जाते हैं।तो छोटे बैगन के आग में भूनकर गरम गोदाम उंगली पर बांधने से ठीक हो जाता है।

8. कान के दर्द में बैगन के टुकड़ों को आग पर डालकर उसकी दुआ कान में देने से कान की कीटाणु नष्ट हो जाते हैं और काम भी साफ कर देता है।

9. चोट का दर्द बैगन का रस 50 ग्राम में 10 ग्राम गुड़ मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम खाने से 8 से 10 दिनों में चोट का दर्द ठीक हो जाता है

10. सायटिका एरड के तेल में बैगन तलकर नमक तथा हींग मिलाकर भोजन के साथ खाने से सायटिका का दर्द दूर होगा।

12. पसली चलना छोटे-छोटे बैगन की माला पहनने से बच्चे की पसली चलना बंद हो जाता है।

13. बैगन जलाकर इसकी राख साथ में मिलाकर लेप करने से मस्से सुखाकर गिर जाते हैं।

14. अनिद्रा भोजन में ज्यादा मात्रा में बैगन का सेवन करने से अनिद्रा रोग से छुटकारा मिल जाता है।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *