बैडमिण्टन खेल नियम के बारे में रोचक तथ्य : Badminton Games About Facts Rules In Hindi

बैडमिण्टन खेल के नियम

बैडमिंटन खेल के नियम निम्नलिखित प्रकार हैं।

खिलाड़ी – बैडमिंटन के खेल में वह सभी व्यक्ति जो खेल में भाग लेते हैं, खिलाड़ी कहलाते हैं। इसके सिंगल खेल में दोनों तरफ 1-1 खिलाड़ी तथा डबल में दोनों तरफ दो – दो खिलाड़ी होते हैं।

स्कोरिंग – बैडमिंटन में पुरुषों के सिंगल तथा डबल मैचों में एक सेट में 15 अंक होते हैं। 15 अंक वाले खेल में दोनों पक्षों के यदि 13 अंक हो जाए तो जिस पथ ने पहले 13 अंक बनाए हैं, उसे 5 अंक का खेल स्थिर करने का अधिकार है या स्कोर 14 -14 हो तो जिस पक्ष ने पहले 14 अंक बनाए हैं उसे 3 अंक के लिए खेल स्थित करने का अधिकार होगा और जो पक्ष पहले 5 या 3 अंक बना ले तो वह विजयी घोषित होंगा। हर समय अगली सर्विस करने से पहले खेल स्थिर करने का अधिकार होगा। यदि स्कोर 10 – 10 हो जाए तो जिस दल ने पहले 10 अंक बनाये हैं। खेल 2 अंकों के लिये स्थिर करने का अधिकार होगा। यदि कोई खिलाड़ी या दाल किसी कारणवश खेल स्थिर न कर सके और उसे वह अवसर फिर से मिल तो वे खेल 21 अंक का हो तो खेल स्थिर 13 और 14 की जगह 19 और 20 अंकों पर होगा।

पूर्व निर्णय के अनुसार विपक्षी दल तीन खेल खेलेंगे, जो दल दो खेल जीतेगा वह विजयी होगा। यदि तीसरा खेल भी खेलना पड़े तो तीसरे खेल में मैदान बदला जाएगा। 15 अंक वाले खेल में 8 अंकों पर 11 अंकों में 6 पर और  21 अंक केे खेेल मेे 11 पर मैदान परिवर्तित होगा।

एक – एक खिलाड़ी का खेल – यदि खेल शून्य या सम अंकों से प्रारंभ हो तो दोनों तरफ के खिलाड़ी दाएं अर्द्धक में खड़े होंगे। यदि विषम अंकों से प्रारंभ करें तो बाायेेंं अर्द्धक से होगा इसी तरह प्रत्येक अंक का बाद अर्द्धक बदल जाता है।

सर्विस फाइल – यदि सर्विस करते समय शटल का पहला संपर्क रैकेट के साथ शटल के तले के साथ न हो।

1- सर्विस करते समय शटल खिलाड़ी की कमर के ऊपर से रैकेट द्वारा खेली जाए।

2- सर्विस करते समय रैकेट का शेफ्ट खिलाड़ी के उस हाथ से ऊंचा हो जिसमें सर्विस करते समय शटल गलत अर्द्धक में गिर जाए।

3- सर्विस करते समय शटल सौर्ट सर्विस एरिया में गिरे।

4- यदि सर्विस करने वाले सर्विस उठाने वाले खिलाड़ी के पैर ठीक अर्द्धक में न हो।

5- यदि शटल सीमा रेखाओ के बाहर गिरे।

6- यदि शटल नेट को पार न करें।

7- यदि शटल छत को छू जाए।

दो-दो खिलाड़ियों का खेल – सर्विस का निर्णय हो जाने के उपरांत ही कौन सा दल पहले सर्विस करेगा ? उस दल के दायें अर्द्धक वाला खिलाड़ी सर्विस करेगा तथा विपक्षी दल के दायें अर्द्धक से की गई सर्विस में कोई त्रुटि न हो जाए तो सर्विस दूसरे दल को चली जाएगी। हर बार सर्विस दाएं अर्द्धक से प्रारंभ होगी। यदि पहली सर्विस से खिलाड़ी द्वारा अंक प्राप्त न किए जाएं तो दूसरा खिलाड़ी सर्विस करेगा। टास के बाद पहली सर्विस एक ही खिलाड़ी करेगा तथा उसके बाद दोनों पक्षो के दोनों खिलाड़ी सर्विस करते हैं, उसमें अंक तथा फसर्ट हैन्ड और अंक तथा सेकंड हैण्ड कहा जाता है। यदि उपरोक्त स्थिति में वह पक्ष अंक हार जाता है तो वह ठीक मानी जाएगी। यदि कोई खिलाड़ी असावधानी के कारण अनावश्यक अपना स्थान बदल लेेता है और इस गलती का आभास अगली सर्विस के समाप्त होने तक नहीं होता है तो यह गलती ठीक मानी जाएगी। उस दशा में लैट की मांग या अनुमति नहीं दी जाएगी। खिलाड़ीयों की दिशा में परिवर्तन नहीं दिया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.