बच्चों को अतिसार होने के कारण और उपचार : Bachcho Ko Atisar Hone Ke Karan Lakshan Aur Upchar

बच्चों को अतिसार होने के कारण

बच्चों को दूषित पानी पीने, संक्रमित भोजन के सेवन आदि कारणों से अतिसार हो जाता है। कई बार किसी गरिष्ठ भोजन के सेवन से भी अतिसार हो जाता है। अतिसार होते ही उचित उपाय शुरू कर देने चाहिए ताकि स्थिति बिगड़े नहीं।

उपचार

जामुन : जामुन का ताजा रस बकरी के दूध में मिलाकर पिलाने से अतिसार बहुत जल्दी ठीक हो जाता है।

जयाफल : जयाफल के चूर्ण को शुद्ध घी में मिलाकर बच्चों को चाटने के लिए दें। चाहे तो स्वाद के लिए इसमें कुछ मात्रा में शक्कर भी मिला देंं, इससे काफी लाभ होगा।

नारंगी : नारंगी के रस मे दूध मिलाकर पिलाने से अतिसार ठीक हो जाता है व उसके पाचन तंत्र को बल मिलता है।

सेव :  दूध नहीं पचता, दूध पीते ही दस्त आना शुरू हो जाते हैं तो दूध बंद करके थोड़े-थोड़े समय के बाद सेव का रस पिलाने से इन दस्तों में आराम मिलता है।

सेव का मुरब्बा व बिना छिलको के सेव बच्चों को खिलाने से अतिसार में लाभ होता है।

बेल : 5 ग्राम पके हुए बेल की गिरी का चूर्ण सौंफ के अर्क मे घोलकर बच्चों को पिलाने से काफी लाभ होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.