आंखों में पानी आने के कारण, लक्षण और उपचार : Ankho Me Pani Ane Ke Karan Lakshan Aur Upchar

 आंखों में पानी आने के कारण व लक्षण

शरीर में पौष्टिक आहार की कमी व आंखों में उचित रखरखाव के अभाव में आंखों से पानी का स्त्राव होने लगता है। कई बार यह बीमारी इतनी बड़ी बढ़ जाती है कि आंखों से लगातार पानी का स्त्राव होता रहता है। यहां तक कि पपोटे भी सूख जाते हैं।

उपचार

संतरा – संतरे का एक गिलास रस प्रतिदिन पीएं। आंखों में पानी आने की बीमारी जड़ से खत्म हो जाएगी।

आंवला – जब आंखों में पानी आने की बीमारी शुरू हो तब आंवले के मुरब्बे का सेवन काफी लाभप्रद होता हैं।

अमरुद – अमरुद को आग में सेककर खाने से आंखों में पानी आना थम जाता है।

अखरोट : सूखे मेवे के रूप में अखरोट का प्रयोग करते रहने से आंखों में पानी आने की समस्या काबू में आ जाती है।

त्रिफला : आंवले की अधिकता वाले त्रिफला चूर्ण का अंजन बनाकर आंखों में लगाने से पानी आना बंद हो जाता है।

बदाम : बदाम को पीसकर दूध के साथ मिलाकर पीने से आंखों में पानी आना पूरी तरह से बंद हो जाता है। यह काफी असरदार इलाज है।

अंगूर : आंखों से पानी बहने से दुखती आंखों में एक दो बूंद अंगूर के रस को डालने से आंखों का दर्द कम हो जाता है तथा पानी बहना भी बंद हो जाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.