अनियमित मासिक धर्म के कारण लक्षण और उपचार : Aniyamita Masika Dhram Ke Karan Lakshan Aur Upchar

अनियमित मासिक धर्म के कारण

महिलाओं के मासिक धर्म की नियमितता का  नियंत्रण विभिन्न हारमोंस द्वारा किया जाता है। जब किसी कारणवश इन हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है तो मासिक धर्म अनियमित हो जाता है। इसके असंयमित सहवास तथा दाहकारक कार व्यंजनों का सेवन भी इस अनियमितता के कारण हो सकते हैं।

लक्षण

मासिक धर्म की तिथि में निरंतर बदलाव इस रोग का प्रमुख लक्षण है। इस रोग में मासिक चक्र का समय परिवर्तित होता रहता है।

उपचार

चुकंदर : गाजर और चुकंदर का रस मिलाकर नियमित रूप से दिन में दो बार पीने से मासिक धर्म की अनियमितता खत्म हो जाती है।

छुहारा : नियमित छुहारे के सेवन से मासिक धर्म आने में चौहान के सेवन से मासिक धर्म नियमित हो जाता है।

नारियल : नारियल में मासिक धर्म को खोलने केे गुुण विधमान है। इसके नियमित सेवन से काफी लाभ होता है।

अंगूर : 100 ग्राम अंगूर का रस नियमित पीते रहने से मासिक धर्म नियमित हो जाता हैं व योनि रोग भी दूर होते हैं।

गाजर : यदि मासिक धर्म में अनियमितता हो तो एक चम्मच गाजर के बीज और एक चम्मच गुड़ को एक गिलास पानी में उबालकर प्रतिदिन सुबह-शाम दो बार गर्म करके पिएंं। इससे मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द तो ठीक हो ही जाएगी साथ में मासिक धर्म की नियमितता भी बरकरार रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.