शारीरिक सौंदर्य-आकर्षण

 

आधुनिक परिवेश में स्त्री-पुरुष अपने को सजने सवारने का जितना अधिक प्रयास करते हैं, रासायनिक सौंदर्य प्रसाधनो के इस्तेमाल से इतनी जल्दी प्राकृतिक सौन्दर्य को खो देते है रसायनों से बने सौंदर्य प्रसाधनो के इस्तेमाल से त्वचा अधिक रुक्ष होकर खुरदरी हो जाती है। त्वचा की शुष्कता बढ़ने से उसकी कोमलता और स्निग्धता नष्ट हो और त्वचा पर झुर्रियां बनने लगती हैं। समय से पहले प्रौढता के लक्षण देने लगते हैं|

गुणकारी घरेलु नुस्खे ।

1.आंवला और शिकाकाई 30-30 ग्राम मात्रा में लेकर रात को जल में डालकर रख दें। प्रातः उठकर थोड़ा-सा पीसकर सिर में लेप करने से बाल काले होते हैं।

2.अमरबेल लगभग 250 ग्राम मात्रा में लेकर थोड़ा-सा कूटकर, जल में उबालकर क्वाथ बनाएं। जब आधा जल शेष रह जाए तो इसे ठंडा करके, छानकर सिर धोने से बाल लंबे और घने होते हैं।

3.प्याज का रस सिर के बालों की जड़ों में उंगलियों से मलने से जुएं नष्ट होती है।

4.बादाम की तीन-चार गिरी रात को जल में डालकर रखें। प्रातः उसके छिलके उतारकर साफ सिल पर एक-एक गिरी घिसकर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की शुष्कता नष्ट होती है और सौंदर्य विकसित होता है।

5.200 ग्राम दही में नीबू का रस और गुलाब जल मिलाकर चेहरे और विभिन्न अंगों पर मलने से सौंदर्य विकसित होता है।
हल्दी का पॉउडर 5 ग्राम, बेसन 50 ग्राम में थोड़ा-सा कच्चा दध मिल मिक्सी में अच्छी तरह मिक्स करें। फिर इस मिश्रण में जैतून का तेल मिला इसको शरीर के विभिन्न अंगों पर लेप करने से त्वचा का सौंदर्य विकसित है।

6.तिल का तेल,मधु , नीबू का रस और बेसन मिलाकर उबटन बनाकर लगाने से और सूखने के बाद स्नान करके साफ करने से त्वचा में अद्भुत निखार आता है।

7.चेहरे पर दूध की मलाई मलने से चेहरे की झाइयां नष्ट होती हैं। त्वचा की शुष्कता नष्ट होती है। त्वचा कोमल और स्निग्ध बनती है।

8.चने की दाल को रात को जल में भिगोकर रखें। सुबह उठकर उस दाल को जल के छींटे मारकर सिल पर बारीक पीस लें अब उस पिसी हुई दाल में थोड़ी-सी हल्दी और जैतून के तेल की आठ-दस बूंदें मिलाकर चेहरे और शरीर के दूसरे अंगों पर लेप करने से सौंदर्य में अद्भुत निखार आता है।

9.हल्दी, चंदन का चूर्ण और नीम के कोमल गुलाबी पत्ते पीसकर चेहरे पर लेप करने से त्वचा कोमल और स्निग्ध बनती है।

10.दही में बेसन मिलाकर शरीर पर मलकर स्नान करने से ग्रीष्म ऋतु में धूप की उष्णता से विकृत त्वचा का सौंदर्य विकसित होता है।

11.तैलीय त्वचा वाली नवयुवतियों को खीरे से बहत लाभ होता है। खीरे का छिलका उतारकर, उसको काटकर चेहरे व शरीर के विभिन्न अंगों पर मलने से त्वचा में निखार आता है। तैलीय त्वचा की विकति नष्ट होती है।

12.दही की मलाई में केसर को अच्छी तरह मिलाकर होंठों पर मलने से होठो की शुष्कता नष्ट होती है और उनका सौंदर्य-आकर्षण विकसित होता है।

13.नीबू के 10 ग्राम रस में तुलसी के पत्तों का 10 ग्राम रस मिलाकर कांच की शीशी में भरकर रखें। सुबह-शाम रुई के टुकड़े की सहायता से चेहरे पर मालिश से त्वचा के सौंदर्य की वृद्धि होती है। त्वचा कोमल और स्निग्ध बनती है|

14.पोदीने की पत्तियों को जल के साथ पीसकर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की सांवली त्वचा में निखार आता है। चेहरे से कील-मुंहासे भी नष्ट होते हैं।

15.रात्रि के समय किसी कांच के पात्र में जल भरकर उसमें 10 ग्राम त्रिफला चूर्ण डाल दें। प्रातः उठकर उस जल को कपडे द्वारा छानकर नेत्रों को धोने से नेत्र ज्योति तीव्र होती है। नेत्रों की धूल-मिट्टी नष्ट होती है और नेत्रों की चमक विकसित होती है।

16.प्रातःकाल सूर्योदय से पहले किसी बाग में जाकर नंगे पांव औस पड़ी घास पर चलने से शरीर में शक्ति और स्फूर्ति विकसित होती है। नेत्रों की ज्योति तीव्र होती है और शरीर की उष्णता नष्ट होती है।

17.नीबू के 10 ग्राम रस में गुलाब जल 10 ग्राम प्रतिदिन सुबह-शाम चेहरे पर मलने से चेहरे के दाग-धब्बे नष्ट होते हैं। चेहरे का सौंदर्य विकसित होता है।

18.नीबू के 20 ग्राम रस में नारियल के 40 ग्राम तेल को मिलाकर सिर के बालों की जड़ में उंगलियों से मलने पर तेजी से बालों का टूटना बंद होता है।

19.गुलाब के फूलों की पंखुड़ियों को पीसकर उसमें थोड़ी-सी ग्लिसरीन मिलाकर प्रतिदिन होंठों पर मलने से होंठों की कालिमा नष्ट होती है। होंठों की शुष्कता का निवारण होता है। होंठों पर बादाम का तेल मलने से भी शुष्कता नष्ट होती है|

20.नीबू का रस कोहनियों पर मलने से मैल धीरे-धीरे उतरने लगता है। कुछ दिनों तक नीबू का रस मलने से कोहनियों की त्वचा का खुरदरापन नष्ट होता है।

21.चेहरे की झुर्रियां होने पर उंगलियों से नीबू का रस लगाएं। कुछ देर बाद नीबू के छिलके चेहरे पर रगड़ने से त्वचा के सौंदर्य में निखार आता है। त्वचा कोमल व स्निग्ध बनती है।

22.प्रतिदिन 200 ग्राम गाजर का रस पीने से सौंदर्य वृद्धि होती है। विटामिन ‘ई’ दीर्घायु तक सौंदर्य को सुरक्षित रखता है

23. 5 ग्राम नीबू के रस में 5 ग्राम टमाटर का रस और थोड़ी-सी हल्दी (पिसी हुई) और बेसन मिलाकर नेत्रों के आसपास लगाएं और 10-15 मिनट बाद उस मिश्रण को जल से धोकर साफ कर दें। कुछ दिन ऐसा करने से नेत्रों के आस-पास का कालापन नष्ट हो जाएगा।

24.प्रतिदिन गाजर और टमाटर का रस पीने से शारीरिक सौंदर्य-आकर्षण विकसित होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *